HomeAlbum

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Lyrics In Hindi – Gulam Ali

Like Tweet Pin it Share Share Email

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Lyrics In Hindi – This song was sung by Gulam Ali While lyrics was penned by Qaiser ul Jafri. In this article, we share Hum Tere Sahar Me Aaye lyrics that you can read and share anywhere on the internet.

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Lyrics In Hindi

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Song Details

SongHum Tere Shahar Mein Aaye Hain Lyrics
SingerGulam Ali
LyricsQaiser ul Jafri
AlbumTere Shahar Main

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Hindi Lyrics

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह

सिर्फ़ इक बार मुलाक़ात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह

मेरी मंजिल है कहाँ
मेरा ठिकाना है कहाँ

मेरी मंजिल है कहाँ
मेरा ठिकाना है कहाँ
सुबह तक तुझसे बिछड़ कर
मुझे जाना है कहाँ

सोचने के लिए इक रात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह

अपनी आंखों में छुपा रक्खे हैं
जुगनू मैंने
अपनी आंखों में छुपा रक्खे हैं
जुगनू मैंने

अपनी पलकों पे सजा रक्खे हैं
आंसू मैंने
मेरी आंखों को भी बरसात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह….

आज की रात मेरा
दर्द-ऐ-मोहब्बत सुन ले
आज की रात मेरा
दर्द-ऐ-मोहब्बत सुन ले

कंप-कंपाते हुए
होठों की शिकायत सुन ले

आज इज़हार-ऐ-खयालात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह

भूलना ही था तो ये
इकरार किया ही क्यूँ था
भूलना ही था तो ये
इकरार किया ही क्यूँ था

बेवफा तुने मुझे प्यार
किया ही क्यूँ था
सिर्फ़ दो चार सवालात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह

सिर्फ़ इक बार मुलाक़ात का
मौका दे दे

हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह
हम तेरे शहर में आए हैं
मुसाफिर की तरह….

Hum Tere Sahar Me Aaye Hai Song Lyrics In English – Gulam Ali

Hum tere shahar me aaye hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar me aae hain
Musaaphir ki tarah

Sirf ik baar mulaaqaat ka
Mauka de de

Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah

Mere manjil hai kahaan
Mera thikaana hai kahaan

Mere manjil hai kahaan
Mera thikaana hai kahaan
Subah tak tujhse bichhad kar
Mujhe jaana hai kahaan

Sochne ke liye ik raat ka
Mauka de de

Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah

Apne aankhon me
chhupa rakkhe hain
juganoo mainne
Apne aankhon me
chhupa rakkhe hain
Juganoo maine

Apanee palakon pe saja rakkhe hain
Aansoo maine
Mere aankhon ko bhee barsaat ka
Mauka de de

Hum tere shahar me aaye hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar me aaye hain
Musaaphir ki tarah….

Aaj ki raat mera
Dard-ai-mohabbat sun le
Aaj ki raat mera
Dard-ai-mohabbat sun le

Kamp-kampaate hue
Hothon ke shikayat sun le

Aaj izahaar aie khayalat ka
Mauka de de

Hum tere shahar me aae hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar me aae hain
Musaaphir ki tarah

Bhoolana hi tha to ye
Ikraar kiya hi kyoon tha
Bhoolna hi tha to ye
Ikraar kiya hi kyoon tha

Bewafa tune mujhe pyar
Kiya hi kyoon tha
Sirf do chaar savaalat ka
Mauka de de

Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar mein aae hain
Musaaphir ki tarah

Sirf ik baar mulaqat ka
Mauka de de

Hum tere shahar me aaye hain
Musaaphir ki tarah
Hum tere shahar me aaye hain
Musaaphir ki tarah….

Lyrics Of Hum Tere Sahar Me Aaye Hain

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *